भारतीय जीवन बीमा निगम के अध्यक्ष ने रुपये 2610.74 करोड़ का लाभांश चेक सुश्री निर्मला सीतारमण, माननीय केंद्रीय मंत्री वित्त एवं कारपोरेट कार्य, को सौंपा


भारतीय जीवन बीमा निगम के अध्यक्ष श्री एम.आर. कुमार ने सुश्री निर्मला सीतारमण, माननीय केंद्रीय मंत्री वित्त एवं कारपोरेट कार्य को रुपये 2610.74 करोड़ का लाभांश जो कि 31.03.2019 तक एलआईसी के एक्चुरियल वैल्यूएशन से उत्पन्न अधिशेष को भारत सरकार की हिस्सेदारी के रूप में पेश किया। वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान, भारतीय जीवन बीमा निगम ने रु 53214.41 करोड का कुल मूल्यांकन अधिशेष उत्पन्न किया जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 9.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। एलआईसी के इतिहास में यह पहली बार है कि मूल्यांकन अधिशेष रुपये 50,000 करोड़ को पार कर गया है। श्री राजीव कुमार, सचिव (वित्त), श्री देबाशीष पांडा, विशेष सचिव (बीमा और एफआई) एवं भारतीय जीवन बीमा निगम के अधिकारी श्री टी.सी. सुशील कुमार, एमडी, श्री विपिन आनंद, एमडी, श्री मुकेश कुमार गुप्ता, एमडी एवं श्री राज कुमार, एमडी के साथ उपस्थित थे। एलआईसी ने अपने निगम के 63 साल पूरे कर लिए हैं और अब 31.11 लाख करोड़ से अधिक की संपत्ति का प्रबंधन करता है। वर्ष 2018-19 में इसकी वार्षिक आय रु 5.61 लाख करोड़ थी एवं इसने अबतक की सर्वोच्च प्रथम वर्ष प्रीमियम आय रु. 142191.69 करोड प्राप्त की। वर्ष 2018-19 के दौरान, इसने 2 करोड़ 59 लाख दावों के लिए रुपये 1.63 लाख करोड़ की राशि का भुगतान किया है। 30 नवंबर 2019 तक एलआईसी की बाजार हिस्सेदारी जो कि नीतियों की संख्या में 76.28 प्रतिशत है एवं प्रथम वर्ष के प्रीमियम में 71 प्रतिशत है।


प्रादेशिक प्रबन्धक (सीसी) भारतीय जीवन बीमा निगम, क्षेत्रीय कार्यालय, भोपाल