भारत में जल संकट; जल संसाधन प्रबंधन एक समाधान

~ श्रीराम वेदिरेजल शक्ति मंत्रालय के सलाहकार, की पुस्तक,“ए डिस्टिंक्टिव वाटर मैनेजमेंट स्टोरी - द राजस्थान वे “ का लॉन्च किया गया ~


शुक्रवार, 27 सितंबर 2019: आजकल दुनिया को सबसे ज़्यादा जल संकट का सामना करना पड़ रहा है, जिसके प्रमुख कारणों में राज्य भीषण सूखे, जलभराव और आकस्मात बाढ़ के कारण शामिल हैं। जल संसाधन प्रबंधन के मुद्दों के समाधान के लिए हर राज्य का आवश्यक कदम उठाना अनिवार्य है। नीती आयोग ने जून 2018 में समग्र जल प्रबंधन सूचकांक (CWMI) को जारी किया, ताकि सार्वजनिक नीति के मध्य में प्रचलित जल संकट के विषय को ध्यान में रखा जा सके। लगभग 4 लाख जल संचयन संरचनाएँ और उनके उत्साहजनक परिणामो के लिए  किए गए प्रयासों को प्रस्तुत करते हुए, श्रीराम वेदिरे, भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय के सलाहकार, द्वारा लिखित एक पुस्तक, 'ए डिस्टिंक्टिव वाटर मैनेजमेंट स्टोरी - द राजस्थान वे' शीर्षक से डॉ. बीआर अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में लॉन्च की गयी । पुस्तक का विमोचन, श्री ओम बिरला, लोकसभा अध्यक्ष, की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय कार्यक्रम में किया गया, जिसमे श्री प्रकाश जावड़ेकर, पर्यावरण, वन, जलवायु परिवर्तन, I & B मंत्री, भारत सरकार; श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, जल शक्ति मंत्री, भारत सरकार; श्री जी किशन रेड्डी, गृह राज्य मंत्री, भारत सरकार ; और श्री संजय धोत्रे, एचआरडी राज्य मंत्री , भारत सरकार भी शामिल थे।


यह राज्य द्वारा श्रीराम वेदिरे की देखरेख और मार्गदर्शन में किए गए प्रयासों को स्पष्ट करती है, जो जल संसाधन प्रबंधन, प्रक्रियाओं पुस्तक राजस्थान और वैज्ञानिक नियोजन के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग से वंचित राज्य है। यह पुस्तक इस सबसे बड़ी चुनौती में शामिल सभी पहलुओं पर प्रकाश डालती है और योजना, निष्पादन, निगरानी और समीक्षा प्रक्रियाओं में उठाए गए कदमों को विस्तार से बताती है।


श्रीराम वेदिरे ने अपनी पुस्तक का लॉन्च करते हुए कहा, “मैं इस तरह के सम्माननीय और प्रेरक व्यक्तित्वों की उपस्थिति में अपनी 5 वीं पुस्तक को लॉन्च करने के लिए सम्मानित और अभिभूत हूं। मैंने जल संसाधन प्रबंधन पर उन प्रमुख क्षेत्रों में काम करने की कोशिश की है जो हमने पिछले पांच वर्षों के दौरान राजस्थान राज्य में निष्पादित किए हैं। राजस्थान के सबसे दूरस्थ गाँव में गरीब से गरीब व्यक्ति को पानी उपलब्ध कराने में जो भारी परिणाम देखने को मिले हैं, वह पेशेवर और व्यक्तिगत रूप से मेरे जीवन के सबसे अधिक खुशहाल क्षणों में से एक है। ”


 


उन्होंने कहा, "राजस्थान में लागू किए गए जल संसाधनों के प्रभावी उपयोग और प्रबंधन पर सभी नवीन नियोजन और निष्पादन प्रथाओं को पूरा करने पूरा करने की सोच के साथ अन्य राज्यों को मौजूदा जल संसाधनों के उपयोग के लिए विचारों और प्रभावी प्रक्रियाओं के साथ मार्गदर्शन करने के उद्देश्य से यह पुस्तक लिखी गयी है।"