राधारमण में साइबर सिक्युरिटी पर तीन दिवसीय कार्यशाला संपन्न

भोपाल। इंटरनेट, मोबाइल और कम्प्यूटर जहां एक ओर हमारे जीवन को आसान बना रहे हैं तो वहीं इनमें सेंध लगाकर  हैकर्स व्यक्ति विशेष से लेकर बड़े-बड़े संस्थानों से संवेदनशील सूचनाएं चुराने से लेकर आर्थिक नुकसान और देश की सुरक्षा को खतरे में डालने जैसे गैरकानूनी कामों को अंजाम दे रहे हैं। आज साइबर सिक्युरिटी डिजिटल हमलों से दुनिया भर के कम्प्यूटर सिस्टम, नेटवर्क और प्रोग्राम रात दिन खतरों का सामना कर रहे हैं।
यह बात राधारमण इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाॅजी एंड साइंस में संपन्न हुई तीन दिवसीय साइबर सिक्युरिटी एंड एथिकल हैकिंग कार्यशाला से निकलकर आई। इस शाॅर्ट टर्म कार्यशाला का आयोजन आरजीपीवी एवं टेकिप-थ्री के द्वारा किया गया था जिसमें कम्प्यूटर साइंस विषय के सहित सभी इंजीनियरिंग के  विद्यार्थियों ने भाग लिया। सायबर मामलों के विशेषज्ञ अजिंक्य लोहकारे ने विद्यार्थियों को पासवर्ड क्रैकिंग, फेक कॉल्स, फेक मैसेजेस, फॉरेंसिक सॉफ्टवर्स, सीक्रेट मैसेज, मोबाइल फोन सिक्योरिटी, सिक्योरिटी फॉर सोशल नेटवर्किंग साइट्स जैसी कई तकनीकी बारीकियों को समझाने के साथ साथ इसका प्रैक्टिकल भी कर के दिखाया। कार्यक्रम के समापन अवसर पर में ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जेएल राणा एवं डायरेक्टर प्रोफेसर आर के पांडेय ने छात्रों को बधाई दी। समूह के चेयरमैन श्री आर आर सक्सेना ने छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इंटरनेट आज हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है तथा इसके सुरक्षित इस्तेमाल के प्रति हम सभी को जागरूक रहना चाहिए।  













Prakash Patil