स्मार्ट सिटी के विरूद्ध प्रदर्शन एवं नारेबाजी


भोपाल, 06.02.2020।  आज व्यापारी रहवासी कल्याण महासंघ द्वारा टीन शेड क्षेत्र में व्यापारियों एवं रहवासियों द्वारा एकत्रित होकर स्मार्ट सिटी के विरूद्ध प्रदर्शन एवं नारेबाजी कर घोर विरोध किया गया। माननीय केन्द्रीय मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी, नगरीय आवास एवं पर्यावरण मंत्रालय के नाम ज्ञापन सौंपते हुये प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं सभी प्रमुख अधिकारियों को ज्ञापन पत्र देकर मांग की गई कि स्मार्ट सिटी योजना का पुनः निर्धारण कर सभी व्यापारी रहवासी एवं धार्मिक स्थलों को सुरक्षित रखते हुये कार्ययोजना का क्रियान्वयन किया जाये। इसमें सभी स्थानीय संगठनों को विश्वास में लेकर कार्य किया जाये। दिनांक 05.02.2020 को मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री दीपक सिंह से चर्चा अनुसार पुनः निर्धारण के कार्य को शीघ्र कराया जाये और उसका लिखित में प्रकाशन कर सभी संबंधितों को अवगत कराया जाये।
    वर्तमान में जो स्मार्ट सिटी योजना द्वारा जो जगह-जगह सांकेतिक साईन बोर्ड लगाये गये हैं उनको शीघ्र हटाया जाये। इस संबंध में भोपाल स्मार्ट सिटी में अधिकृत जनप्रतिनिधि श्री कृष्णमोहन सोनी जी को मौके पर बुलाकर जवाहर चौक से हटायी गई 200 दुकानों की स्थिति से अवगत कराया गया तथा मांग की गई कि उनको जवाहर चौक पर ही उचित स्थान चिन्हित कर स्थापित करने की कार्यवाही की जाये। इस स्मार्ट सिटी योजना के विरोध में महासंघ के पदाधिकारी एवं संरक्षक मंडल श्री रामेश्वर नीखरा, डॉ. एन.डी. गार्गव, विजय तिवारी, डॉ. जी.डी. अग्रवाल, दीपक शाह, विजय कुमार सखलेचा तथा अध्यक्ष विजीत पाटनी, उपाध्यक्ष त्रिभुवन मिश्रा, दिनेश दुबे, राजेश गुप्ता, राकेश गुप्ता, मनोज द्विवेदी, दिनेश पाण्डेय, महासचिव राकेश जैन ‘अनुपम’, कोषाध्यक्ष संतोष जैन ‘कुंदन’, प्रवक्ता सुभाष पाटीदार, कार्यालय मंत्री दीपक सोनी एवं प्रमुख सदस्यगण अप्पाजीत सिंह (गुरूद्वारा), शरद यादव आर्य समाज, फईम खान, चन्द्रप्रकाश बाबानी, जाहिद खान, इसरार खान, इन्द्रा मार्केट सहित सैंकड़ों की संख्या में स्थानीय व्यापारी एवं रहवासीगण उपस्थित थे।
    महसचिव राकेश जैन ‘अनुपम’ ने बताया कि कल का मुख्य विरोध प्रदर्शन दीनदयाल मार्केट दशहरा मैदान, चन्द्रशेखर स्कूल से होटल पलाश तक सभी व्यापारियों एवं रहवासियों के सहयोग से किया जावेगा तथा व्यापारीगण अपने-अपने मार्केट में काले झण्डे, बैनर तथा कैण्डल जलाकर स्मार्ट सिटी का विरोध करते रहेंगे जब तक कि स्मार्ट सिटी योजना का पुनः निर्धारण होकर व सभी लोगोंे की समस्याओं का निराकरण नहीं हो जाता।