पर्यटन क्षेत्र में विकास से खजुराहो को मिलेगी नई पहचान

पर्यटन मंत्री बघेल ने किया कुटनी आइलैण्ड रिसोर्ट का लोकार्पण



खजुराहो में अब पर्यटन के क्षेत्र में भरपूर विकास होगा, इससे स्थानीय लोगों को रोजगार के भरपूर मौके भी मिलेंगे। ऐतिहासिक और पुरातात्विक स्थल खजुराहो सहित अन्य पर्यटन स्थलों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए मध्यप्रदेश की सरकार प्रतिबद्ध है। पर्यटन क्षेत्र में विकास होने से खजुराहो को नई पहचान भी मिल सकेगी। यह बात प्रदेश शासन के पर्यटन एवं नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री सुरेन्द्र सिंह बघेल ने खजुराहो के कुटनी बांध स्थित कुटनी आइलैण्ड रिसोर्ट के लोकार्पण अवसर पर कही। 


मंत्री श्री बघेल ने कहा कि बुंदेलखण्ड में पर्यटन विकास के लिए टूरिज्म सर्किट बनाया जाएगा, उन्होंने खजुराहो बिजनेस सर्किट, कन्वेंशन सेंटर और मैरिज डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने के लिए भी प्रयास करने की बात कही, मंत्री श्री बघेल ने कहा कि बुंदेलखण्ड महोत्सव जैसे आयोजन के जरिए खजुराहो की पहचान राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने में मदद मिलेगी, पर्यटन के विकास के लिए पर्यटन नीति में बदलाव कर इंवेस्टर्स को निवेश के लिए आकर्षित करने, एडवेंचर और वाटर स्पोर्ट्स की गतिविधियां आयोजित कराने सहित खजुराहो को रेल और वायु सेवा के माध्यम से देश-प्रदेश के महत्वपूर्ण शहरों से जोड़ने की बात भी उन्होंने कही।


    क्षेत्रीय विधायक कु. विक्रम सिंह नातीराजा ने खजुराहो में शूटिंग और स्पोर्ट्स अकादमी खोलने सहित बेनीसागर बांध में गोल्फ कोर्स स्थापित कराने की मांग रखी।


बैठक में स्टेक-होल्डर्स के साथ हुई चर्चा


   मंत्री श्री बघेल ने लोकार्पण से पूर्व पर्यटन क्षेत्र से जुड़े स्टेक-होल्डर्स के साथ भी बैठक में खजुराहो के पर्यटन पर विस्तृत चर्चा की, स्टेक-होल्डर्स ने मेडिकल टूरिज्म विकसित करने, कनेक्टिविटी की समस्या हल कराने, बुंदेली संस्कृति को बढ़ावा देने, लोकरंग कार्यक्रम की शुरूआत करने सहित अन्य महत्वपूर्ण सुझाव रखे। इस मौके पर पर्यटन निगम की अपर प्रबंध संचालक,  श्रीमती भावना वालिम्बे,  कलेक्टर श्री मोहित बुनदक और पुलिस अधीक्षक श्री तिलक सिंह एवं म.प्र. पर्यटन के अधिकारी मौजूद थे।


सरकार की स्वदेश दर्शन योजना के तहत हुआ है रिसोर्ट का निर्माण


    कुटनी बांध पर बने कुटनी आइलैण्ड रिसोर्ट का निर्माण केन्द्र सरकार की स्वदेश दर्शन योजना के तहत किया गया है। इस रिसॉर्ट मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा निर्माण किया गया है। इस रिसोर्ट में 10 अतिथि कक्ष और रेस्टॉरेंट हैं, आगामी दिनों में म.प्र पर्यटन द्वारा अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी।