शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय, भोपाल में राष्ट्रीय अखण्डता की ली शपथ

शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय, भोपाल में कौमी एकता सप्ताह और सार्वजनिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता की ताकत को मजबूत करने के लिए और बढ़ावा देने के लिये राष्ट्रीय अखण्डता शपथ का आयोजन किया गया । ये सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए भी देश में निहित शक्ति और लचीलेपन को उजागर करने में सहायता करता है।

राष्ट्रीय एकता समारोह के दौरान भारत की स्वतंत्रता और ईमानदारी को संरक्षण और मजबूत करने की प्रतिज्ञा ली जाती है। प्रतिज्ञा में ये दृढ़ निश्चय किया जाता है कि सभी प्रकार के मतभेदों के साथ ही भाषा, संस्कृति, धर्म, क्षेत्र और राजनीतिक आपत्तियों के विवादों को निपटाने के लिये अहिंसा, शांति और विश्वास को जारी रखा जायेगा।

*राष्ट्रीय अखण्डता शपथ*

"मैं सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञा करता/करती हूँ कि देश की आजादी तथा अखण्डता बनाए रखने और उसे मजबूत करने के लिए समर्पित होकर कार्य करूँगा/करूँगी।

में यह प्रतिज्ञा करता/करती हूं कि कभी हिंसा का सहारा नहीं लूंगा/लूंगी तथा धर्म, भाषा, क्षेत्र से सम्बंधित भेदभाव और झगडो और अन्य राजनीतिक और आर्थिक शिकायतों का निपटारा शांतिपूर्ण तथा संवैधानिक तरीके से करने के लिये प्रयास करता/करती रहूंगा/रहूंगी।" की शपथ महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आर.के. सिंह द्वारा सभी प्राध्यापकों एवं विद्यार्थियों को दिलाई गई।कार्यक्रम का संयोजन डॉ अशोक शर्मा द्वारा किया गया।

 

कौमी एकता सप्ताह के पूरे सप्ताह के समारोह के दौरान विशिष्ट विषयों से संबंधित प्रत्येक दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। कुछ कार्यक्रम जैसे बैठकों, सेमिनारों, संगोष्ठियों, विशेष रूप से महान कार्यों, सांस्कृतिक गतिविधियाँ इस समारोह की विषय-वस्तु (राष्ट्रीय अखण्डता शपथ, कौमी एकता सप्ताह, धर्मनिरपेक्षता, अहिंसा, भाषाई सौहार्द, विरोधी सांप्रदायिकता, सांस्कृतिक एकता, कमजोर वर्गों के विकास और खुशहाली, अल्पसंख्यकों के महिला और संरक्षण के मुद्दों) को उजागर करने के लिए आयोजित की जाती है। सप्ताह के उत्सव राष्ट्रीय एकता की शपथ के साथ शुरू होता है।