सही जानकारी, पूरी समझदारी एड्स पर विजय की तैयारी"

*राष्ट्रीय सेवा योजना एवं रेड रिबन क्लब का संयुक्त आयोजन*


 

शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना एवं रेड रिबन क्लब  के संयुक्त तत्वाधान में एच.आई.वी./ एड्स जागरूकता कार्यक्रम के अन्तर्गत आज क्विज़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य छात्र- छात्राओं को एच. आई.वी./ एड्स के प्रति जागरूक करना है।

आमतौर पर ऐसा देखा जाता है कि एचआईवी और एड्स का नाम सुनते ही लोगों के हावभाव बदल जाते हैं। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है लोगों में एचआईवी और एड्स के बारे में सही जानकारी का न होना। अक्सर लोग दोनों के मतलब को समझने में भूल कर देते हैं। बता दें कि एच.आई.वी. एक वायरस है जो एड्स नाम की बीमारी को जन्म देता है। इसलिए आपको एच.आई.वी. और एड्स के बीच का अंतर पता होना चाहिए। एड्स का पूरी तरह से इलाज असंभव है, लेकिन कुछ दवाइयां हैं जिनकी मदद से इसके वायरस को लंबे समय के लिए इनऐक्टिव किया जा सकता है ताकि मरीज अधिक आयु तक जी सके। इसके लिए ऐंटी रेट्रोवायरल थेरपी (Anti retrol viral therapy or ART) दी जाती है। यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ ऐंड ह्यूमन सर्विसेज के अनुसार, भारत में हर साल एच.आई.वी. के भी कई केस सामने आते हैं। इसलिए लोगों को एचआईवी और ऐड्स के प्रति जागरूक होने की जरूरत है

क्विज़ प्रतियोगिता में जो प्रश्न मुझे वो इस तरह थे-

एड्स फैलने के कारण क्या है ?, एच.आई.वी. और एड्स में अन्तर, एच.आई.वी./ एड्स संक्रमण होने के कारण, एच.आई.वी. से बचने के उपाय, एच.आई.वी./एड्स संक्रमण कैसे नहीं होता है? जैसे प्रश्न पूछे गए। क्विज़ प्रतियोगित का संचालन राहुल सेन ने किया।

कार्यक्रम में दिव्या नागा, सपना द्विवेदी, भूपेश पटेल, संदीप हजारिया, आकाश शुक्ला, अभिषेक आर्या, श्रुति शाक्य, आस्था त्रिपाठी, स्वाति तिवारी, सत्यम शाक्य सहित अन्य रा.से.यो. स्वयंसेवक उपस्थित रहे।

 

Popular posts from this blog

Madhya Pradesh Tourism hosts its first Virtual Road Show

UK में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों में एक दिन में 27% की बढ़त।

गूगल की नई AR  टेक्नोलॉजी से अब आप अपने घर बैठे किसी भी जानवर का 3D व्यू देखिये |