राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में फैकेल्टी डेवलपमेंट प्रोगाम 


 


राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में 19 नवंबर 2019 को कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग विभाग के तत्वाधान में मशीन इंटेलिजेंस एवं डीप लर्निंग विषय के ऊपर एक फैकेल्टी डेवलपमेंट प्रोगाम का शुभारंभ किया गया।  TEQIP III  द्वारा प्रायोजित एक हफ्ते के इस कार्यक्रम में कार्यक्रम समन्वयक प्रोफेसर संजय सिलाकारी ने अतिथियों का स्वागत किया व कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए बताया कि यह तकनीक विश्व की नवीनतम तकनीकों में से एक है जिसका उपयोग सेना के आधुनिकरण, कृषि ,ई कॉमर्स ,सोशल मीडिया ,रोबोटिक इत्यादि हर क्षेत्र में होता है व अगले कुछ दिनों में प्रशिक्षु को राष्ट्रीय स्तर के शिक्षकों द्वारा कम्युनिकेशन व मशीन इंटेलिजेंस एडवांस कॉन्वोलुशन न्यूरल नेटवर्क, bio-inspired ऑप्टिमाइजेशन तकनीकें, डीप लर्निंग की तकनीक   के साथ पाइथन ट्रेनिंग दी जाएगी। इसका शुभारंभ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सुनील कुमार जी की उपस्थिति में विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक एवं प्रख्यात वैज्ञानिक डॉ राकेश कुमार आर्य द्वारा किया गया उन्होंने अपने उद्बोधन में कंप्यूटर नेटवर्किंग के नवीनतम स्टैंडर्ड एवं इंडस्ट्री 4.0 को भी समावेशित करते हुए मशीन इंटेलिजेंस को अभिकल्पित करने की सलाह दी वहीं कुलपति गुप्ता जी ने कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग विभाग को सफल आयोजन की बधाई देते हुए प्रशिक्षु शिक्षकों को अपने चिर परिचित अंदाज में चुटकी लेते हुए हर शिक्षक को भी अपने विषय में डीप लर्निंग की सलाह दी 

कार्यक्रम का संचालन द्वितीय समन्वयक शिखा अग्रवाल ने किया व कुलपति डॉ गुप्ता के आग्रह पर डीप लर्निंग विषय को अतिथियों एवं प्रशिक्षु शिक्षकों को समझाते हुए बताया कि सर्वोत्तम उपयोग अत्याधुनिक इमेज प्रोसेसिंग एवं रिकॉर्डर सिस्टम में किया जाता है तत्पश्चात अगले सत्र में डॉ मनीष माहेश्वरी द्वारा नेटवर्क की बातों पर व्याख्यान दिया गया और भोजन उपरांत प्रशिक्षुओं को पाइथन की प्रैक्टिकल हैंड्स ऑन कराई गई।

Popular posts from this blog

Madhya Pradesh Tourism hosts its first Virtual Road Show

UK में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों में एक दिन में 27% की बढ़त।

गूगल की नई AR  टेक्नोलॉजी से अब आप अपने घर बैठे किसी भी जानवर का 3D व्यू देखिये |