व्यक्ति की दिनचर्या में भावातीत ध्यान जरूरीः ब्रह्मचारी गिरीश जी


# महर्षि कौशल विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान का प्रथम स्थापना दिवस
भोपाल (महामीडिया) महार्षि संस्थान के प्रमुख ब्रह्मचारी गिरीश जी की मुख्य आतिथ्य में आज भोपाल में महर्षि कौशल विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान का प्रथम स्थापना दिवस समारोह आयोजित किया गया । इस अवसर पर विभिन्न विधाओं में प्रशिक्षण प्राप्त महिलाओं को पुरस्कार एवं प्रमाण पत्र बांटे गए  एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया । इस अवसर पर खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एससी गुप्ता, महर्षि विद्या मंदिर समूह के संचार एवं जनसंपर्क निदेशक व्ही आर खरे, महर्षि शैक्षणिक संस्था के निदेशक एमएस सोलंकी और महर्षि कौशल विकास एवं प्रशिक्षण केंद्र के डायरेक्टर एनवीएस त्यागी सहित  बड़ी संख्या में प्रशिक्षणार्थी एवं गणमान्य लोग उपस्थित थे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए ब्रह्मचारी गिरीष ने कहा कि महर्षि कौषल विकास एवं प्रषिक्षण संस्थान का एक वर्ष पूर्ण होने पर सभी को बधाई दी । ब्रह्मचारी गिरीष ने प्रशिक्षिणार्थियों को संबोधित करते हुए एवं भावातीत ध्यान के बारे में बताते हुए कहा कि 'हम दिन भर में जितनी गतिविधि एवं क्रिया बाहर करते हैं उन सभी का संबंध-आंतरिक क्रिया से है जिसे 'चेतना' कहते हैं तथा चेतना हमारी समस्त क्रियाओं का संचालन करती है इसलिए हम अपने घर-गांव, शहर, परिवार में भावातीत ध्यान को सीखें और अन्य लोगों को सीखने एवं करने के लिए प्रेरित करें।
इस अवसर पर विषिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित एस.सी. गुप्ता ने कहा कि 'महर्षि संस्थान केंद्रीय खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग की मंषा अनुरूप ही कार्य कर रहा है। भारत सरकार द्वारा प्रतिवर्ष 2500 करोड़ की सब्सिडी खादी एवं ग्रामोद्योग को दी जा रही है। इसलिए महर्षि संस्थान प्रषिक्षण प्राप्त करने वाले प्रषिक्षणार्थियों को भारत सरकार की सब्सिडी एवं ऋण लेने के लिए प्रोत्साहित करें जिसके लिए  हम हर संभव सहायता देंगे।' उन्होंने प्लम्बर, कारपेंटर, आटोमोबाईल को भी इस प्रषिक्षण से जोड़ने की जरूरत बताई।
इस अवसर पर व्ही. आर. खरे ने कहा कि । महिलायें स्वालंबी बन रही हैं एवं स्वयं पैसा कमा रही हैं। स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध करवाकर हम इसे और सषक्त करें।' इस अवसर पर महर्षि कौषल विकास एवं प्रषिक्षण संस्थान के राष्ट्रीय संयोजक एन.व्ही.एस. त्यागी ने एक वर्ष की उपलब्धियों पर प्रकाष डालते हुए कहा कि 'एक प्रषिक्षण संस्थान से बढ़कर भोपाल में सेंटरों की संख्या सात हो चुकी है और 35 स्कूलों को यूनिफार्म सिलकर उपलब्ध करवाई जा रही है। आनेवाले समय में इसे संपूर्ण महर्षि विद्या मंदिर स्कूलों की यूनिफार्म सिलकर प्रदाय करने तक निरंतर गति दी जाएगी।'
कार्यक्रम का शुभारंभ महर्षि संस्थान की परंपरा अनुसार गुरुपूजन से प्रारंभ हुआ। इसके पष्चात् मंचासीन अतिथियों का स्वागत शाल एवं श्रीफल से किया गया। इसके पष्चात् ब्रह्मचारी गिरीष ने प्रषिक्षणार्थियों को प्रषिक्षण प्रमाण पत्र वितरित किये। 


 


Popular posts from this blog

Madhya Pradesh Tourism hosts its first Virtual Road Show

UK में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों में एक दिन में 27% की बढ़त।

गूगल की नई AR  टेक्नोलॉजी से अब आप अपने घर बैठे किसी भी जानवर का 3D व्यू देखिये |