वरिष्ठ नेता जिलों में पहुंचकर ‘घंटानाद’ आंदोलन का नेतृत्व करेंगे

 भोपाल। प्रदेश सरकार कुंभकर्णी नींद में सो रही है, जनता के हितों की चिंता नहीं है, केवल और केवल भ्रष्टाचार के कीर्तिमान बना रही है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस सरकार को नींद से जगाने के लिए 11 सितम्बर को प्रदेशव्यापी 'घंटानाद' आंदोलन तय किया है। आंदोलन में कार्यकर्ता घंटा, घडियाल और मंजीरे लेकर कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे। हर जिला केन्द्रों पर पार्टी के वरिष्ठ नेता आंदोलन का नेतृत्व करेंगे।


 


                       क्र.     जिला                   पदाधिकारी का नाम


                       1      मुरैना                   श्री उमाशंकर गुप्ता


                                2      भिण्ड                   श्री वेदप्रकाश शर्मा


                                3      दतिया                 श्रीमती संध्या राय


                                4      ग्वालियर नगर/


                                                ग्वालियर ग्रामीण श्री भूपेन्द्र सिंह


                                5      श्योपुर                 श्री लाल सिंह आर्य


                                6      शिवपुरी        श्रीमती माया सिंह


                                7      गुना                    श्री प्रदीप लारिया, श्री के.पी. यादव


                                8      अशोकनगर      श्री जयभान सिंह पवैया


                        9      सागर                   श्री प्रभात झा


                                10     टीकमगढ़       श्री जयंत मलैया


                                11     छतरपुर                 श्री व्ही.डी. शर्मा


                                12     दमोह                   श्री वीरेन्द्र खटीक


                                13     पन्ना                   श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह


                       14     रीवा                    श्री सीताशरण शर्मा, श्री जनार्दन मिश्रा


                                15     सतना                  श्री गणेश सिंह


                                16     सीधी                   श्रीमती रीती पाठक


                                17     सिंगरौली       श्री राजेन्द्र शुक्ल


                       18     शहडोल        श्री अजय प्रताप सिंह, श्रीमती हिमाद्री सिंह


                                19     उमरिया        श्री रामलाल रौतेल


                                20     अनूपपुर                 श्री शरतेन्दु तिवारी


                       21     जबलपुर नगर/


                                                जबलपुर ग्रामीण  श्री गोपाल भार्गव


                                22     कटनी                   श्री अरविन्द भदौरिया


                                23     डिण्डौरी                 श्री विनोद गोटिया


                                24     मंडला                   श्री कैलाश सोनी, श्रीमती सम्पतियॉ उइके


                                25     बालाघाट       श्री नरेश दिवाकर


                                26     सिवनी                 श्री ढाल सिंह बिसेन


                                27     नरसिंहपुर       श्री राव उदय प्रताप सिंह


                                28     छिन्दवाड़ा       श्री गौरीशंकर बिसेन


                                29     होशंगाबाद      श्रीमती कृष्णा गौर


                                30     हरदा                   श्री अभिलाष पाण्डे, श्री कमल पटेल


                                31     बैतूल                   श्री हेमंत खंडेलवाल, श्री दुर्गादास उइके


                       32     भोपाल नगर/


                                                भोपाल ग्रामीण   श्री राकेश सिंह, साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर


                                33     रायसेन                 श्री धु्रवनारायण सिंह, श्री रमाकांत भार्गव


                                34     विदिशा                 श्री शिवराज सिंह चौहान


                                35     सीहोर                   श्री नरोत्तम मिश्रा


                                36     राजगढ़                  श्री आलोक संजर, श्री रोडमल नागर


                       37     इंदौर नगर/


                                                इंदौर ग्रामीण    श्री नंदकुमार सिंह चौहान, श्री शंकर ललवानी


                                38     खण्डवा                 श्री सुदर्शन गुप्ता


                                39     बुरहानपुर       श्री यशपाल सिसोदिया


                                40     खरगोन                 श्री विजय शाह


                                41     बड़वानी                 श्री गजेन्द्र पटेल


                                42     अलीराजपुर      सुश्री उषा ठाकुर


                                43     झाबुआ          श्री रमेश मेंदोला, श्री जी.एस. डामोर


                                44     धार                    श्री मोहन यादव, श्री छतर सिंह दरबार


                       45     उज्जैन नगर/


                                                उज्जैन ग्रामीण   श्री विक्रम वर्मा, श्री अनिल फिरोजिया


                                46     शाजापुर        श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री महेन्द्र सोलंकी


                                47     आगर                   श्री विजेन्द्र सिंह सिसोदिया


                                48     देवास                   श्री कृष्णमुरारी मोघे


                                49     रतलाम                 डॉ. सत्यनारायण जटिया, श्री चेतन कश्यप


                                50     मंदसौर                 श्री सुधीर गुप्ता


                                51     नीमच                 श्री मनोहर ऊंटवाल


 


 


 


अवैध खनन, शराब की दलाली जैसे आरोपों का क्या हुआ, जनता को बताएं कमलनाथः अजय प्रताप सिंह


 


                भोपाल। पार्टी हाईकमान को खुश करने के चक्कर में मुख्यमंत्री कमलनाथ पार्टी में चल रहे विवादों को खत्म बता रहे हैं, लेकिन इस कोशिश में वे प्रदेश की जनता की उपेक्षा कर रहे हैं। सरकार के मंत्री और विधायकों ने इस विवाद में एक-दूसरे पर सार्वजनिक रूप से आरोप लगाए थे। मुख्यमंत्री कमलनाथ को प्रदेश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि उन आरोपों का क्या हुआ ? यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री व सांसद श्री अजयप्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा कांग्रेस मंत्रियों तथा नेताओं के आपसी विवाद पर 'ऑल इज वेल' कहे जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।


                श्री अजयप्रताप सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार के मंत्री, नेता और विधायकों ने प्रदेश की जनता को अपनी आपसी लड़ाई का मंच बनाते हुए एक-दूसरे पर रिश्वतखोरी, अवैध खनन के कारोबार को प्रश्रय देने, शराब माफिया को संरक्षण देने जैसे गंभीर आरोप लगाए थे। लेकिन हाईकमान के सामने अपनी छवि बनाने के चक्कर में मुख्यमंत्री कमलनाथ एक बार फिर प्रदेश की जनता को धोखा दे रहे हैं। श्री सिंह ने कहा कि अगर एक-दूसरे को आईना दिखाने वाले इन मंत्रियों-नेताओं में कोई सहमति बनी है, तो उसका आधार क्या है? रेत के अवैध खनन में किसकी क्या हिस्सेदारी होगी, शराब माफिया से मिले पैसों को किस आधार पर बांटा जाएगा, किस के हिस्से में कितने तबादलों से हुई कमाई आएगी, ये ऐसी बातें हैं, जिनका जवाब प्रदेश की जनता को दिया जाना चाहिए। श्री अजयप्रताप सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री को यह भी बताना चाहिए कि क्या उन्होंने इन गंभीर आरोपों की जांच कराई है और यदि ये आरोप सही हैं, तो संबंधित नेताओं के खिलाफ उन्होंने क्या कार्रवाई की है? यह भी स्पष्ट करना चाहिए कि यदि ये आरोप सिर्फ सत्ता की बंदरबांट में अपना हिस्सा बढ़वाने के लिए या एक-दूसरे को नीचा दिखाने के लिए लगाए गए थे, तो मुख्यमंत्री ने इन नेताओं के खिलाफ क्या एक्शन लिया?


 


 


  (लोकेन्द्र पाराशर)


 प्रदेश मीडिया प्रभारी